Thursday, 31 December 2015

नया साल


बेतरतीब सी जिंदगी
इकत्तीस की शाम 
घर आती है
और
उम्मीदों के पुलिंदों में 
फिर सिमट जाती है